तरक्की

अब ईमान से उठ कर चापलूसी कर रहे हैं लोग !
आजकल धीरे धीरे तरक़्क़ी कर रहे है लोग !

अब हालातों से उठ कर गम्भीर बन रहे हैं लोग !
आजकल धीरे धीरे तरक़्क़ी कर रहे हैं लोग !

अब वस्तुओं से उठ कर मानवता बेच रहे हैं लोग !
आजकल धीरे धीरे तरक़्क़ी कर रहे हैं लोग !

अब मेहनत से उठ कर आलस चुरा रहे हैं लोग !
आजकल धीरे धीरे तरक़्क़ी कर रहे हैं लोग !

अब हमदर्दी से उठ कर तकलीफ़ें बढ़ा रहे हैं लोग !
आजकल धीरे धीरे तरक़्क़ी कर रहे हैं लोग !

अब सम्बन्धों से उठ कर दीवारें बना रहे हैं लोग !
आजकल धीरे धीरे तरक़्क़ी कर रहे हैं लोग…!!!

तरक्की Tarakki Hindi Poetry By Priya Pandey

Tarakki

Ab Imaan Se Uth Kar Chaplusi Kar Rahe Hain Log !
Aajkal Dheere Dheere Tarakki Kar Rahe Hai Log !

Ab Halaaton Se Uth Kar Gambhir Ban Rahe Hain Log !
Aajkal Dheere Dheere Tarakki Kar Rahe Hain Log !

Ab Vastuon Se Uth Kar Manvata Bech Rahe Hain Log !
Aajkal Dheere Dheere Tarakki Kar Rahe Hain Log !

Ab Mehnat Se Uth Kar Aalas Chura Rahe Hain Log !
Aajkal Dheere Dheere Tarakki Kar Rahe Hain Log !

Ab Hamdardi Se Uth Kar Takleefe Badha Rahe Hain Log !
Aajkal Dheere Dheere Tarakki Kar Rahe Hain Log !

Ab Sambandho Se Uth Kar Deeware Bana Rahe Hain Log !
Aajkal Dheere Dheere Tarakki Kar Rahe Hain Log…!!!


Also Read This Poetry :