ईमान

मुनाफ़े का झोला उठाए बिकते हैं इंसान सभी !
ईमान से जो ना बिक पाए ऐसा कोई इंसान नही !

ज़मीर की गागर सुखाए लुटते हैं इंसान सभी !
ईमान से जो ना बिक पाए ऐसा कोई इंसान नही !

शोहरत की होड़ लगाए बिकते हैं इंसान सभी !
ईमान से जो ना बिक पाए ऐसा कोई इंसान नही !

बेईमानी की आँधियाँ उड़ाए लुटते हैं इंसान सभी !
ईमान से जो ना बिक पाए ऐसा कोई इंसान नही !

धोके को आधार बनाए बिकते हैं इंसान सभी !
ईमान से जो ना बिक पाए ऐसा कोई इंसान नही !

मुकरने की क़ीमत बढ़ाए लुटते हैं इंसान सभी !
ईमान से जो ना बिक पाए ऐसा कोई इंसान नही…!!!

ईमान Imaan Hindi Poetry Written By Priya Pandey

Imaan

Munafe Ka Jhola Uthaye Bikte Hain Insaan Sabhi !
Imaan Se Jo Na Bik Paye Aisa Koi Insaan Nahi !

Zameer Ki Gaagar Sukhaye Lutate Hain Insaan Sabhi !
Imaan Se Jo Na Bik Paye Aisa Koi Insaan Nahi !

Shohrat Ki Hod Lagaye Bikte Hain Insaan Sabhi !
Imaan Se Jo Na Bik Paye Aisa Koi Insaan Nahi !

Beimaani Ki Aandhiya Udaye Lutate Hain Insaan Sabhi !
Imaan Se Jo Na Bik Paye Aisa Koi Insaan Nahi !

Dhoke Ko Aadhaar Banaye Bikte Hain Insaan Sabhi !
Imaan Se Jo Na Bik Paye Aisa Koi Insaan Nahi !

Mukarne Ki Qeemat Badhaye Lutate Hain Insaan Sabhi !
Imaan Se Jo Na Bik Paye Aisa Koi Insaan Nahi…!!!


Also Read This Poetry :