बेचैनी

रात के छोर पर पाँव सुजाती लौटी हैं बेचैनी,
मुझ संग पीठ लगा कर गुफ़्तगू करने को !

तन्हाई के छोर पर हाँफती लौटी हैं बेचैनी,
मुझ संग बिन इजाज़त लिए उलझने को…!!!

Hindi Quotes About Bechaini By Priya Pandey

Bechaini

Raat Ke Chhor Par Paanv Sujati Lauti Hain Bechaini,
Mujh Sang Peeth Laga Kar Guftagoo Karne Ko !

Tanhai Ke Chhor Par Hanfti Lauti Hain Bechaini,
Mujh Sang Bin Ijaazat Liye Ulajhne Ko…!!!

Also Read This Poetry : शिकायतें

खुदगर्जी

ख़ुदगर्ज़ी की मोहर लगाए घूमती हूँ हर दिन,
की कोई मुझ सा मिले और गरज की बातें हो !

मतलबी होने का दावा करती हूँ हर दिन,
की कोई मुझ सा मिले और मतलब की बातें हो…!!!

Hindi Quotes About Khudgarzi By Priya Pandey

Khudgarzi

Khudgarzi Ki Mohar Lagaye Ghoomti Hu Har Din,
Ki Koi Mujh Sa Mile Aur Garaj Ki Baaten Ho !

Matlabi Hone Ka Dava Karti Hu Har Din,
Ki Koi Mujh Sa Mile Aur Matlab Ki Baaten Ho…!!!


Also Read This Poetry :