अफवाह

सारा शहर अफ़वाहों से आज़ाद होने लगा हैं !
क्यूँ ना गलियारों में ऐसी अफ़वाह फैला दी जाए !

अब शहर बेरोज़गारी से निजात पाने लगा हैं !
क्यूँ ना गलियारों में ऐसी अफ़वाह फैला दी जाए !

सारा शहर वफ़ादारी से ग्रसित होने लगा हैं !
क्यूँ ना गलियारों में ऐसी अफ़वाह फैला दी जाए !

अब शहर झूठी बग़ावतों से बचने लगा हैं !
क्यूँ ना गलियारों में ऐसी अफ़वाह फैला दी जाए !

सारा शहर तंगीयों से आज़ाद होने लगा हैं !
क्यूँ ना गलियारों में ऐसी अफ़वाह फैला दी जाए !

अब शहर सरकारी नीतियों से आबाद होने लगा हैं !
क्यूँ ना गलियारों में ऐसी अफ़वाह फैला दी जाए…!!!

अफवाह Afwah Hindi Poetry By Priya Pandey

Afwah

Sara Sehar Afwahon Se Aazad Hone Laga Hain !
Kyu Na Galiyaron Mein Aisi Afwah Faila Di Jaye !

Ab Sehar Berozagari Se Nizaat Pane Laga Hain !
Kyu Na Galiyaron Mein Aisi Afwah Faila Di Jaye !

Sara Sehar Wafadari Se Grasit Hone Laga Hain !
Kyu Na Galiyaron Mein Aisi Afwah Faila Di Jaye !

Ab Sehar Jhoothi Bagawato Se Bachane Laga Hain !
Kyu Na Galiyaron Mein Aisi Afwah Faila Di Jaye !

Sara Sehar Tangiyo Se Aazad Hone Laga Hain !
Kyu Na Galiyaron Mein Aisi Afwah Faila Di Jaye !

Ab Sehar Sarkari Neetiyon Se Aabad Hone Laga Hain !
Kyu Na Galiyaron Mein Aisi Afwah Faila Di Jaye…!!!


Also Read This Poetry :