उपदेश

किसी के उपदेशों से आशंका झलक रही है,
जो मुझे उन्नति की राह में परास्त कर रही है !

किसी के उपदेशों से ख़ुदगर्ज़ी चहक रही है,
जो मुझे निरंतर मूर्ख होने का आदी बना रही है !

किसी के उपदेशों से असभ्यता महक रही है,
जो मुझे सभी सभ्यताओं से लाचार बना रही है !

किसी के उपदेशों से विशुद्धता झलक रही है,
जो मुझे निरंतर गूढ़ चिंताओं में धकेल रही है !

किसी के उपदेशों से अस्पष्टता चहक रही है,
जो मुझे सांसारिक तमाशे का पात्र बना रही है !

किसी के उपदेशों से शत्रुता महक रही है !
जो मुझे उद्देश्यों से बेसहारा कर रही है...!!!

उपदेश Updesh Hindi Thoughts By Priya Pandey

Updesh

Kisi Ke Updesho Se Aashanka Jhalak Rahi Hai,
Jo Mujhe Unnati Ki Raah Mein Parast Kar Rahi Hai !

Kisi Ke Updesho Se Khudgarzi Chahak Rahi Hai,
Jo Mujhe Nirantar Murkh Hone Ka Aadi Bana Rahi Hai !

Kisi Ke Updesho Se Asabhyata Mahak Rahi Hai,
Jo Mujhe Sabhi Sabhyatao Se Lachar Bana Rahi Hai !
 
Kisi Ke Updesho Se Vishuddhata Jhalak Rahi Hai,
Jo Mujhe Nirantar Gudh Chintao Mein Dhakel Rahi Hai !

Kisi Ke Updesho Se Aspashtata Chahak Rahi Hai,
Jo Mujhe Sansarik Tamashe Ka Patra Bana Rahi Hai !

Kisi Ke Updesho Se Shatruta Mahak Rahi Hai !
Jo Mujhe Uddeshyo Se Besahara Kar Rahi Hai...!!!


Also Read This Poetry :