पाबंदी

मैं हूँ पाबंदी तुम्हें ग़ुलामी का अर्थ समझाऊँगी !
मैं हूँ पाबंदी तुम्हें रज़ामंदी का अर्थ बतलाऊँगी !

मैं हूँ पाबंदी तुम्हें दायरे का अर्थ समझाऊँगी !
मैं हूँ पाबंदी तुम्हें क़ायदे का अर्थ बतलाऊँगी !

मैं हूँ पाबंदी तुम्हें झुकने का अर्थ समझाऊँगी !
मैं हूँ पाबंदी तुम्हें रुकने का अर्थ बतलाऊँगी !

मैं हूँ पाबंदी तुम्हें अंकुश का अर्थ समझाऊँगी !
मैं हूँ पाबंदी तुम्हें बंदिश का अर्थ बतलाऊँगी !

मैं हूँ पाबंदी तुम्हें अस्त का अर्थ समझाऊँगी !
मैं हूँ पाबंदी तुम्हें शिकस्त का अर्थ बतलाऊँगी !

मैं हूँ पाबंदी तुम्हें ख़ामियों का अर्थ समझाऊँगी !
मैं हूँ पाबंदी तुम्हें बेड़ियों का अर्थ बतलाऊँगी…!!!

पाबंदी Pabandi Hindi Thoughts By Priya Pandey

Pabandi

Main Hu Pabandi Tumhe Gulami Ka Arth Samjhaungi !
Main Hu Pabandi Tumhe Razamandi Ka Arth Batlaungi !

Main Hu Pabandi Tumhe Dayre Ka Arth Samjhaungi !
Main Hu Pabandi Tumhe Qayade Ka Arth Batlaungi !

Main Hu Pabandi Tumhe Jhukne Ka Arth Samjhaungi !
Main Hu Pabandi Tumhe Rukne Ka Arth Batlaungi !

Main Hu Pabandi Tumhe Ankush Ka Arth Samjhaungi !
Main Hu Pabandi Tumhe Bandish Ka Arth Batlaungi !

Main Hu Pabandi Tumhe Ast Ka Arth Samjhaungi !
Main Hu Pabandi Tumhe Shikast Ka Arth Batlaungi !

Main Hu Pabandi Tumhe Khamiyon Ka Arth Samjhaungi !
Main Hoon Pabandi Tumhe Bediyon Ka Arth Batlaungi…!!!


Also Read This Poetry :