मन का शोर

अनुभवों में पीड़ा को गढ़ रहा, कैसा हैं ये मन का शोर !
दुःख से ह्रदय को कचोट रही, कैसी हैं ये मन की डोर !

गहरी माया के गृह को छोड़ रहा, कैसा हैं ये मन का शोर !
सुख की डोली से विदा हो रही, कैसी हैं ये मन की डोर !

प्रलय की ताक़तों को तोड़ रहा, कैसा है ये मन का शोर !
घुटन के धागों से उलझ रही, कैसी हैं ये मन की डोर !

संसार की स्पर्धा को छोड़ रहा, कैसा हैं ये मन का शोर !
अपरिचित की हार से डर रही, कैसी हैं ये मन की डोर !

करुणा की इच्छाओं को तोड़ रहा, कैसा है ये मन का शोर !
दुर्बलताओं की दुर्बलता से लोहा ले रही, कैसी हैं ये मन की डोर…!!!

मन का शोर Hindi Poetry Written By Priya Pandey

Man Ka Shor

Anubhavon Mein Peeda Ko Gadh Raha, Kaisa Hain Ye Man Ka Shor !
Dukh Se Hraday Ko Kachot Rahi, Kaisi Hain Ye Man Ki Dor !

Gehri Maya Ke Grah Ko Chhod Raha, Kaisa Hain Ye Man Ka Shor !
Sukh Ki Doli Se Vida Ho Rahi, Kaisi Hain Ye Man Ki Dor !

Pralay Ki Taqton Ko Tod Raha, Kaisa Hai Ye Man Ka Shor !
Ghutan Ke Dhaago Se Ulajh Rahi, Kaisi Hain Ye Man Ki Dor !

Sansaar Ki Spardha Ko Chhod Raha, Kaisa Hain Ye Man Ka Shor !
Aparichit Ki Haar Se Dar Rahi, Kaisi Hain Ye Man Ki Dor !

Karuna Ki Ichchaon Ko Tod Raha, Kaisa Hai Ye Man Ka Shor !
Durbaltao Ki Durbalta Se Loha Le Rahi, Kaisi Hain Ye Man Ki Dor…!!!


Also Read This Poetry :