जूझते रिश्ते

डूबते रिश्तों में अहमियत का बिखर जाना, आधा टुकड़ा हैं लाज़मी का !
मौज़ों के बुलबुलों का सतह पर टूट जाना, आधा टुकड़ा हैं हक़ीक़त का !

जूझते रिश्तों में मायूस परतों का चढ़ जाना, आधा टुकड़ा हैं लाज़मी का !
मुलाक़ातों के सिलसिलों का बेमौत मर जाना, आधा टुकड़ा हैं हक़ीक़त का !

घुटते रिश्तों में उजालों का बुझ जाना, आधा टुकड़ा हैं लाज़मी का !
शाम की चौखटों पर बेचैनियों का झांक जाना, आधा टुकड़ा हैं हक़ीक़त का !

डूबते रिश्तों में मायनों का गिर जाना, आधा टुकड़ा हैं लाज़मी का !
उदासियों में सिसकियों से भर जाना, आधा टुकड़ा हैं हक़ीक़त का !

घुटते रिश्तों में एकतरफ़ा हो जाना, आधा टुकड़ा हैं लाज़मी का !
निशानियों की कब्र कुरेद जाना, आधा टुकड़ा है हक़ीक़त का….!!!

जूझते रिश्ते Jujhate Rishtey Hindi Poetry By Priya Pandey

Jujhate Rishtey

Doobate Rishton Mein Ahamiyat Ka Bikhar Jaana, Aadha Tukda Hain Lazmi Ka !
Mauzon Ke Bulbulo Ka Satah Par Toot Jaana, Aadha Tukda Hain Haqeeqat Ka !

Jujhate Rishton Mein Mayus Parton Ka Chadh Jaana, Aadha Tukda Hain Lazmi Ka !
Mulaqato Ke Silsilon Ka Bemaut Mar Jaana, Aadha Tukda Hain Haqeeqat Ka !

Ghutte Rishton Mein Ujalon Ka Bujh Jaana, Aadha Tukda Hain Lazmi Ka !
Shaam Ki Chaukhaton Par Bechainiyon Ka Jhank Jaana, Aadha Tukda Hain Haqeeqat Ka !

Doobte Rishton Mein Maayno Ka Gir Jaana, Aadha Tukda Hain Lazmi Ka ! Udasiyon Mein Siskiyon Se Bhar Jaana, Aadha Tukda Hain Haqeeqat Ka !

Ghutate Rishton Mein Ektarfa Ho Jaana, Aadha Tukda Hain Lazmi Ka ! Nishaniyo Ki Kabr Kured Jaana, Aadha Tukda Hai Haqeeqat Ka….!!!


Also Read This Poetry :