झरोखे

दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही किरने लुभाती हैं !
दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही यादें भाती हैं !

दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही राहें लुभाती हैं !
दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही निगाहें भाती हैं !

दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही ख्वाहिशें सजाती हैं !
दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही शामें भाती हैं !

दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही मुलाक़ातें लुभाती हैं !
दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही हवायें भाती हैं !

दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही बारिशें सजाती हैं !
दिल के झरोखे को अक्सर तेरी ही दहलीज़ें भाती हैं…!!!

झरोखे Jharokhe Hindi Thoughts By Priya Pandey

Jharokhe

Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Kirne Lubhaati Hain !
Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Yaade Bhaati Hain !

Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Raahe Lubhaati Hain !
Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Nigahe Bhaati Hain !

Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Khwahishe Sajaati Hain !
Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Shame Bhaati Hain !

Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Mulakate Lubhaati Hain !
Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Hawayen Bhaati Hain !

Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Baarishen Sajaati Hain !
Dil Ke Jharokhe Ko Aksar Teri Hi Dehleezen Bhaati Hain…!!!


Also Read This Poetry :