आशायें

आशाओं के मोह से लिपटने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जी चाहता हैं !

आशाओं की शरारतों से बिगड़ने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जी चाहता है !

आशाओं के नशे में डूबने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जी चाहता हैं !

आशाओं के साये में सोने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जीं चाहता हैं !

आशाओं की बारिशों में भीगने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जी चाहता हैं !

आशाओं की आग में झुलसने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जी चाहता हैं !

आशाओं की हथेलियाँ चूमने को जी चाहता हैं !
अब किसी की परिभाषा बनने को जी चाहता हैं…!!!

आशायें Aashaye Hindi Poetry By Priya Pandey

Aashaye

Aashaon Ke Moh Se Lipatane Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hain !

Aashaon Ki Shararto Se Bigadne Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hai !

Aashaon Ke Nashe Mein Doobane Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hain !

Aashaon Ke Saaye Mein Sone Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hain !

Aashaon Ki Barishon Mein Bheegne Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hain !

Aashaon Ki Aag Mein Jhulasne Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hain !

Aashaon Ki Hatheliya Choomne Ko Jee Chahta Hain !
Ab Kisi Ki Paribhasha Banne Ko Jee Chahta Hain…!!!


Also Read This Poetry :