आईना

फ़ुरसत से जब चेहरा आईने पर टांग दिया,
ज़ुल्फ़ें आईने के समक्ष अटखेलियाँ कर गयी !

बुझे लबों से जब आईने को पुकार दिया,
मुस्कुराहट आईने के समक्ष बदमाशियाँ कर गयी !

शरारती उँगलियों से जब चेहरे को छेड़ दिया,
नज़ाकत आईने के समक्ष हलचल कर गयी !

आँचल समेट के जब कन्धों को थका दिया,
फ़ितरत आईने के समक्ष गवाह बन गयी !

रूठी बिंदियों को जब माथे पर सजा दिया,
ख़ूबसूरती आईने के समक्ष मदहोश कर गयी !

ख़ामोश तिल को जब होंठों का ग़ुलाम बना दिया,
सादगी आईने के समक्ष दीवाना कर गयी !

फ़ुरसत से जब चेहरा आईने पर टांग दिया,
नज़रें आईने के समक्ष गिरफ़्तार हो गयी…!!!

आईना Aaina Hindi Poetry Written By Priya Pandey

Aaina

Fursat Se Jab Chehra Aaine Par Tang Diya,
Zulfe Aaine Ke Samaksh Atakheliya Kar Gayi !

Bujhe Labon Se Jab Aaine Ko Pukaar Diya,
Muskurahat Aaine Ke Samaksh Badmashiyan Kar Gayi !

Shararti Ungaliyo Se Jab Chehre Ko Chhed Diya,
Nazakat Aaine Ke Samaksh Halchal Kar Gayi !

Aanchal Samet Ke Jab Kandhon Ko Thaka Diya,
Fitrat Aaine Ke Samaksh Gawah Ban Gayi !

Roothi Bindiyon Ko Jab Mathe Par Saja Diya,
Khubsurati Aaine Ke Samaksh Madhosh Kar Gayi !

Khamosh Til Ko Jab Honthon Ka Gulaam Bana Diya,
Sadgi Aaine Ke Samaksh Deewana Kar Gayi !

Fursat Se Jab Chehra Aaine Par Tang Diya,
Nazaren Aaine Ke Samaksh Giraftaar Ho Gayi…!!!


Also Read This Poetry :