संतुष्टि

मन के घाव बाँट लिए जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !
विपत्ति के बादल छाँट दिए जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !

असंतुष्टि के सुर बिगाड़ लिए जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !
लालसाओं को खिलवाड़ बना दिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !

स्वार्थ की गरिमा को नष्ट कर दिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !
असंतुलन की अस्मिता को कष्ट दिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !

इच्छाओं को क़ाबू कर लिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !
संतोष को बेक़ाबू कर दिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !

सुकून का आगमन कर दिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ !
अंतर्मन को तृप्त कर लिया जाए, अगर थोड़ी संतुष्टि निहार लूँ...!!!

संतुष्टि Santushti Hindi Poetry By Priya Pandey

Santushti

Man Ke Ghav Bant Liye Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !
Vipatti Ke Badal Chant Diye Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !

Asantushti Ke Sur Bigad Liye Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !
Laalsao Ko Khilawad Bana Diya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !

Swarth Ki Garima Ko Nasht Kar Diya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon ! Asantulan Ki Asmita Ko Kasht Diya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !
 
Ichchaon Ko Qaboo Kar Liya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !
Santosh Ko Beqaboo Kar Diya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !

Sukoon Ka Aagman Kar Diya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon !
Antarman Ko Trapt Kar Liya Jaye, Agar Thodi Santushti Nihar Loon...!!!


Also Read This Poetry :