चकाचौंध

अंधियारों की धुन गुनगुनाते गुनगुनाते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध के साज़ बजाने लगे !

अंधियारों में दीये जलाते जलाते, ना जाने क्यूँ हमें चकाचौंध के सितारे भाने लगे !

अंधियारों में सुकून ढूँढते ढूँढते, ना जाने क्यूँ हमें चकाचौंध के शोर शाराबे पुकारने लगे !

अंधियारों के साथ समय बिताते बिताते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध के कायल होने लगे !

अंधियारों में सिसकियाँ लेते लेते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध में करवटें लेने लगे !

अंधियारों में सादगी से रहते रहते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध में हसरतें पूरी करने लगे !

अंधियारों को असत्य समझते समझते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध को हक़ीक़त समझने लगे !

अंधियारों में ठहरते ठहरते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध की अफ़रा तफ़री में जीने लगे !

अंधियारों में मूल्य धन खोते खोते, ना जाने क्यूँ हम चकाचौंध में क़ीमती ख़ज़ाने ढूँढने लगे...!!!

चकाचौंध Chakachaundh Hindi Poetry By Priya Pandey

Chakachaundh

Andhiyaro Ki Dhun Gungunate Gungunate, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Ke Saaz Bajane Lage !

Andhiyaro Mein Diye Jalate Jalate, Na Jaane Kyu Hame Chakachaundh Ke Sitare Bhane Lage ! 

Andhiyaro Mein Sukoon Dhundhte Dhundhte, Na Jaane Kyu Hame Chakachaundh Ke Shor Sharabe Pukarane Lage !

Andhiyaro Ke Saath Samay Bitate Bitate, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Ke Kayal Hone Lage !

Andhiyaro Mein Siskiya Lete Lete, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Mein Karvate Lene Lage !

Andhiyaro Mein Sadgi Se Rahte Rahte, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Mein Hasarate Puri Karne Lage !

Andhiyaro Ko Asatya Samajate Samajhte, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Ko Haqeeqat Samajhne Lage !

Andhiyaro Mein Thaharate Thaharate, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Ki Afara Tafari Mein Jeene Lage !

Andhiyaro Mein Mulay Dhan Khote Khote, Na Jaane Kyu Ham Chakachaundh Mein Qimati Khazane Dhoondhane Lage...!!!


Also Read This Poetry :