आलस्य


आलस्य प्रमाद मेरे शरीर में अपना संसार बसा रहा है !
आलस्य प्रमाद मेरे शरीर में अपना संगीत गुनगुना रहा है !

आलस्य प्रमाद मेरे शरीर को अपना शिकार बना रहा है !
आलस्य प्रमाद मेरे शरीर को अब निष्क्रिय बना रहा है !

आलस्य प्रमाद मेरे शरीर में अपनी जड़े फैला रहा है !
आलस्य प्रमाद मेरे शरीर में अपने अवगुणों को छोड़ रहा है !

आलस्य प्रमाद अदृश्य हुए मुझमें अवरोध पैदा कर रहा है !
आलस्य प्रमाद अपने अलसायें हाथों से मुझे जकड़ रहा है !

आलस्य प्रमाद अपनी संगति में मुझे डुबो रहा है !
आलस्य प्रमाद अपना सारा समय मुझ पर नष्ट कर रहा है !

आलस्य प्रमाद मुझसे खूब मिलनसार हो रहा है !
आलस्य प्रमाद दरिद्रता को मुझमें जन्म दे रहा है...!!!

आलस्य Aalasya Hindi Thoughts By Priya Pandey

Aalasya

Aalasya Pramad Mere Shareer Mein Apna Sansar Basa Raha Hai !
Aalasya Pramad Mere Shareer Mein Apna Sangeet Gunguna Raha Hai !

Aalasya Pramad Mere Shareer Ko Apna Shikar Bana Raha Hai !
Aalasya Pramad Mere Shareer Ko Ab Nishkriya Bana Raha Hai !

Aalasya Pramad Mere Shareer Mein Apni Jade Faila Raha Hai !
Aalasya Pramad Mere Shareer Mein Apne Avguno Ko Chhod Raha Hai !

Aalasya Pramad Adrshya Hue Mujhme Avarodh Paida Kar Raha Hai !
Aalasya Pramad Apne Alasayen Haatho Se Mujhe Jakad Raha Hai !

Aalasya Pramad Apni Sangati Mein Mujhe Dubo Raha Hai !
Aalasya Pramad Apna Sara Samay Mujh Par Nasht Kar Raha Hai !

Aalasya Pramad Mujhse Khoob Milansar Ho Raha Hai !
Aalasya Pramad Daridrata Ko Mujhme Janam De Raha Hai...!!!


Also Read This Poetry :