सुनसान राहें

मस्त थे जो कल तंग गलियों में, आज सुनसान ठिकाने बनाए बैठे है !
व्यस्त थे जो कल चहल पहल करने में, आज सुनसान राहें बनाए बैठे है !

मस्त थे जो कल ताने बाने बुनने में, आज अधिक सहमे हुए बैठे है !
व्यस्त थे जो कल काम काजों में, आज हाथों पे हाथ धरे बैठे है !

मस्त थे जो कल कर्मभूमि पर ठहरने में, आज पलायन कर मजबूर हुए बैठे है !
व्यस्त थे जो कल परिवारों को संजोने में, आज खुद तितर-बितर हुए बैठे है !

मस्त थे जो कल उत्साह से ज़िंदगी जीने में, आज ज़िंदगी से शिकस्त खाए बैठे है !
व्यस्त थे जो कल मेल मिलाप करने में, आज सबसे दूरी बनाए बैठे है !

मस्त थे जो कल परम सुख जीने में, आज तबाही देखे हुए बैठे है !
व्यस्त थे जो कल शहरों की सड़कों पर, आज घरों में क़ैद हुए बैठे है...!!!

सुनसान राहें Sunsaan Raahe Hindi Poetry By Priya Pandey

Sunsaan Raahe

Mast The Jo Kal Tang Galiyon Mein, Aaj Sunsaan Thikane Banaye Baithe Hai !
Vyast The Jo Kal Chahal Pahal Karne Mein, Aaj Sunsaan Raahe Banaye Baithe Hai !

Mast The Jo Kal Tane Bane Bunane Mein, Aaj Adhik Sahme Hue Baithe Hai !
Vyast The Jo Kal Kaam Kaajon Mein, Aaj Haatho Pe Haath Dhare Baithe Hai !

Mast The Jo Kal Karmbhoomi Par Theharne Mein, Aaj Palayan Kar Majboor Hue Baithe Hai !
Vyast The Jo Kal Pariwaro Ko Sanjone Mein, Aaj Khud Titar-Bitar Hue Baithe Hai !

Mast The Jo Kal Utsah Se Zindagi Jeene Mein, Aaj Zindagi Se Shikast Khaye Baithe Hai !
Vyast The Jo Kal Mel Milaap Karne Mein, Aaj Sabse Doori Banaye Baithe Hai !

Mast The Jo Kal Param Sukh Jeene Mein, Aaj Tabaahi Dekhe Hue Baithe Hai !
Vyast The Jo Kal Shahro Ki Sadko Par, Aaj Gharo Mein Qaid Hue Baithe Hai...!!!


Also Read This Poetry :