शिक्षा

रिक्त बुद्धि को शिक्षा का दस्तूर बताया जाए !
अज्ञानी से ज्ञानी तक का सफ़र तय करवाया जाए !

शिक्षा की रोशनी की तनिक आँच लगायी जाए !
रिक्त बुद्धि को पिघलाने का एक अवसर दिया जाए !

उठा के किताबों और कलम को परिवर्तन की गुंजाइश रखी जाए !
समाज में सम्मान का उनको भी हक़दार बनाया जाए !

बंद दरवाज़ों में क़ैद रिक्त बुद्धि को नया 
जीवनदान दिया जाए !
जीवन के कण कण में शिक्षा का निवेश किया जाए !

आत्मविश्वास का सामर्थ्य और कर्तव्यों का बोध कराया जाए !
शिक्षा को सर्वोपरि रख जीवन का आधार बनाया जाए !

जीवन में शून्य से ऊपर उठा कर उन्हें स्वतंत्र किया जाए !
शिक्षा से समाज के विकास में उनकी भागीदारी को दर्ज किया जाए...!!!

शिक्षा Shiksha Hindi Poetry Written By Priya Pandey

Shiksha

Rikt Buddhi Ko Shiksha Ka Dastoor Bataya Jaye !
Agyani Se Gyani Tak Ka Safar Tay Karwaya Jaye !

Shiksha Ki Roshani Ki Tanik Aanch Lagayi Jaye !
Rikt Buddhi Ko Pighalane Ka Ek Awasar Diya Jaye !

Utha Ke Kitabo Aur Kalam Ko Parivartan Ki Gunjaish Rakhi Jaye ! Samaj Mein Samman Ka Unko Bhi Haqdaar Banaya Jaye !

Band Darwajo Mein Qaid Rikt Buddhi Ko Naya Jeevandaan Diya Jaye !
Jeevan Ke Kan Kan Mein Shiksha Ka Nivesh Kiya Jaye !

Aatmavishwas Ka Samarthya Aur Kartavyo Ka Bodh Karaya Jaye !
Shiksha Ko Sarvopari Rakh Jeevan Ka Aadhaar Banaya Jaye !

Jeevan Mein Shunya Se Upar Utha Kar Unhen Swatantra Kiya Jaye !
Shiksha Se Samaj Ke Vikas Mein Unki Bhagidari Ko Darj Kiya Jaye...!!!


Also Read This Poetry :