प्रभाव

आकर्षण के प्रभावों से सारा संसार लगाव रख रहा है !
विश्वासों के भावों से सारा संसार अलगाव रख रहा है !

संवेदनाओं के अभावों से सारा संसार लगाव रख रहा है !
व्यवहार के भावों से सारा संसार बिखराव रख रहा है !

एकांत के प्रभावों से सारा संसार अलगाव रख रहा है !
स्वार्थ के भावो से सारा संसार लगाव रख रहा है !

योग्यता के प्रभावों से सारा संसार टकराव रख रहा है !
यथार्थ के भावों से सारा संसार बिखराव रख रहा है !

स्वभावों के प्रभावों से सारा संसार लगाव रख रहा है !
असंतोष के भावों से सारा संसार बिखराव रख रहा है...!!!
प्रभाव Prabhav Hindi Thoughts By Priya Pandey

Prabhav

Aakarshan Ke Prabhavo Se Sara Sansar Lagav Rakh Raha Hai !
Vishwaso Ke Bhavo Se Sara Sansar Algav Rakh Raha Hai !

Sanvedanao Ke Abhavo Se Sara Sansar Lagav Rakh Raha Hai !
Vyavahar Ke Bhavo Se Sara Sansar Bikhrav Rakh Raha Hai !

Ekant Ke Prabhavo Se Sara Sansar Alagav Rakh Raha Hai !
Swarth Ke Bhavo Se Sara Sansar Lagav Rakh Raha Hai !

Yogyata Ke Prabhavo Se Sara Sansar Takrav Rakh Raha Hai !
Yatharth Ke Bhavo Se Sara Sansar Bikhrav Rakh Raha Hai !

Swabhavo Ke Prabhavo Se Sara Sansar Lagav Rakh Raha Hai !
Asantosh Ke Bhavo Se Sara Sansar Bikhrav Rakh Raha Hai...!!!


Also Read This Poetry :