निष्प्राण देह

मेरी देह यूँ निष्प्राण हो कर सो रही है !
मानो जैसे गहरी चोट उसको सहला रही है !

मेरी देह यूँ मरहम का इंतज़ाम कर ही रही है !
मानो जैसे पुरानी चोटों का भी हिसाब कर रही है !

मेरी देह यूँ गहरी चोट को सफ़र में साथ लिए चल रही है !
मानो जैसे मुझको निष्प्राण होने के संस्कार सिखा रही है !

मेरी देह यूँ गहरी चोट को अपने आँचल में पनाह दे रही है !
मानो जैसे गहरी चोट से अपने रिश्ते सुखमय बना रही है !

मेरी देह यूँ गहरी चोटों से बेहद घुल मिल रही है !
मानो जैसे चोटों से उपहार के सिलसिले अब धीरे धीरे थम रहे है...!!!

निष्प्राण देह Nishpran Deh Hindi Poetry By Priya Pandey

Nishpran Deh

Meri Deh Yu Nishpran Ho Kar So Rahi Hai !
Mano Jaise Gehari Chot Usko Sahla Rahi Hai !

Meri Deh Yu Marham Ka Intazam Kar Hi Rahi Hai !
Mano Jaise Purani Choton Ka Bhi Hisaab Kar Rahi Hai !

Meri Deh Yu Gehari Chot Ko Safar Mein Saath Liye Chal Rahi Hai !
Mano Jaise Mujhko Nishpran Hone Ke Sanskar Sikha Rahi Hai !

Meri Deh Yu Gehari Chot Ko Apne Aanchal Mein Panah De Rahi Hai ! Mano Jaise Gehari Chot Se Apne Rishte Sukhmay Bana Rahi Hai !

Meri Deh Yu Gehari Choton Se Behad Ghul Mil Rahi Hai !
Mano Jaise Choton Se Upahar Ke Silasile Ab Dheere Dheere Tham Rahe Hai...!!!


Also Read This Poetry :