निष्कर्ष

तुम किसी की कहानियों का निष्कर्ष बन जाओ !
मैं किसी के जीवन का हर्ष बन जाऊँ !

तुम किसी के परिश्रम का निष्कर्ष बन जाओ !
मैं किसी के सफलता का संघर्ष बन जाऊँ !

तुम किसी की भावनाओं का उत्कर्ष बन जाओ !
मैं किसी की यातनाओं का निष्कर्ष बन जाऊँ !

तुम किसी की सरलता का उत्कर्ष बन जाओ !
मैं किसी की जटिलता का निष्कर्ष बन जाऊँ !

तुम किसी की सहानुभूतियों का उत्कर्ष बन जाओ !
मैं किसी की अनुभूतियों का हर्ष बन जाऊँ !

तुम किसी की उम्मीदों का उत्कर्ष बन जाओ !
मैं किसी की मुस्कुराहट का हर्ष बन जाऊँ !

तुम किसी के विराम का संघर्ष बन जाओ !
मैं किसी के आराम का हर्ष बन जाऊँ...!!!

निष्कर्ष Nishkarsh Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Nishkarsh

Tum Kisi Ki Kahaniyo Ka Nishkarsh Ban Jao !
Main Kisi Ke Jeevan Ka Harsh Ban Jau !

Tum Kisi Ke Parishram Ka Nishkarsh Ban Jao !
Main Kisi Ke Safalata Ka Sangharsh Ban Jau !

Tum Kisi Ki Bhavanao Ka Utkarsh Ban Jao !
Main Kisi Ki Yatanao Ka Nishkarsh Ban Jau !

Tum Kisi Ki Saralata Ka Utkarsh Ban Jao !
Main Kisi Ki Jatilata Ka Nishkarsh Ban Jau !

Tum Kisi Ki Sahanubhutiyo Ka Utkarsh Ban Jao !
Main Kisi Ki Anubhutiyo Ka Harsh Ban Jau !

Tum Kisi Ki Ummeedo Ka Utkarsh Ban Jao !
Main Kisi Ki Muskurahat Ka Harsh Ban Jau !

Tum Kisi Ke Viram Ka Sangharsh Ban Jao !
Main Kisi Ke Aaram Ka Harsh Ban Jau...!!!


Also Read This Poetry :