मुश्किल है एक पुरूष होना

गम्भीर चेहरा और ह्रदय में गहरा प्रेम रखना, मुश्किल है एक पुरूष होना !
नयन नम्र और मन जटिल करना, मुश्किल है एक पुरूष होना !

वेदनाओं को प्रकट ना करने की हिदायत होना, मुश्किल है एक पुरूष होना !
तकलीफ़ों में अपनों को सम्भालें रखना, मुश्किल है एक पुरूष होना !

स्त्री के अनकहे जज़्बात समझना, मुश्किल है एक पुरूष होना !
स्त्री के जीवन की ढाल बनना, मुश्किल है एक पुरूष होना !

कभी अभद्रता की तुलना सहना, मुश्किल है एक पुरूष होना !
सभी भूमिकाओं पर खरा उतरना, मुश्किल है एक पुरूष होना !

अश्रुओं को छुपा कर भीतर रखना, मुश्किल है एक पुरूष होना !
आत्मसम्मान को क्षति पहुँचाना, मुश्किल है एक पुरूष होना !

प्रत्येक पक्षों के मायने समझना, मुश्किल है एक पुरूष होना !
सृष्टि में दृढ़ता की मिसाल बनना, मुश्किल है एक पुरूष होना…!!!

मुश्किल है एक पुरूष होना Hindi Poetry Written By Priya Pandey

Mushkil Hai Ek Purush Hona

Gambhir Chehra Aur Hraday Mein Gehra Prem Rakhna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
Nayan Namra Aur Man Jatil Karna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !

Vedanao Ko Prakat Na Karne Ki Hidayat Hona, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
Takalifon Mein Apno Ko Sambhale Rakhna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
 
Stree Ke Ankahe Jazbaat Samajhna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
Stree Ke Jeevan Ki Dhaal Banna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !

Kabhi Abhadrata Ki Tulna Sehna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
Sabhi Bhoomikao Par Khara Utarna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !

Ashruon Ko Chhupa Kar Bhitar Rakhna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
Aatmasamman Ko Kshati Pahuchana, Mushkil Hai Ek Purush Hona !

Pratyek Paksho Ke Mayne Samajhna, Mushkil Hai Ek Purush Hona !
Srishti Mein Drudhta Ki Misaal Banna, Mushkil Hai Ek Purush Hona…!!!


Also Read This Poetry :