मर्यादा

मुझे प्रतिष्ठा के पद से गिरा नही सकती मेरी मर्यादा !
मुझे तहज़ीब के पद से गिरा नही सकती मेरी मर्यादा !

मुझे सीमाएँ लांघने पर मजबूर नही कर सकती मेरी मर्यादा !
मुझे अनुशासन से दुर्बल बना नही सकती मेरी मर्यादा !

मुझसे आत्मसम्मान के दस्तख़त करवा रही है मेरी मर्यादा !
मुझे स्वतंत्रता का उल्लंघन ना करने का आदेश दे रही है मेरी मर्यादा !

मुझे वाणी पर नियंत्रण करना सिखा रही है मेरी मर्यादा !
मुझमें सम्मान के आचरण की पूर्ति कर रही है मेरी मर्यादा !

मुझे अशुद्ध मर्यादा को अपनाने की अनुमति नही दे रही है मेरी मर्यादा !
मुझे निरर्थक वादों में नही बांध रही है मेरी मर्यादा !

मुझ पर तकलीफ़ों के प्रहार से प्रभावित नही हो रही है मेरी मर्यादा !
मुझे सारी ज़िम्मेदारियों से बोझिल महसूस नही करवा रही मेरी मर्यादा...!!!

मर्यादा Maryada Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Maryada

Mujhe Pratishtha Ke Pad Se Gira Nahi Sakti Meri Maryada !
Mujhe Tahzeeb Ke Pad Se Gira Nahi Sakti Meri Maryada ! 

Mujhe Seemae Langhne Par Majboor Nahi Kar Sakti Meri Maryada !
Mujhe Anushasan Se Durbal Bana Nahi Sakti Meri Maryada ! 

Mujhse Aatmsamman Ke Dastkhat Karwa Rahi Hai Meri Maryada !
Mujhe Swatantrata Ka Ullanghan Na Karne Ka Aadesh De Rahi Hai Meri Maryada ! 

Mujhe Vaani Par Niyantran Karna Sikha Rahi Hai Meri Maryada !
Mujhme Samman Ke Aacharan Ki Purti Kar Rahi Hai Meri Maryada ! 

Mujhe Ashuddh Maryada Ko Apnane Ki Anumati Nahi De Rahi Hai Meri Maryada !
Mujhe Nirarthak Wado Mein Nahi Bandh Rahi Hai Meri Maryada ! 

Mujh Par Takalifo Ke Prahar Se Prabhavit Nahi Ho Rahi Hai Meri Maryada !
Mujhe Sari Zimmedariyo Se Bojhil Mahsoos Nahi Karwa Rahi Meri Maryada...!!!


Also Read This Poetry :