खालीपन

निरंतर ही मेरे खंडर शरीर में ख़ालीपन सा गूँज रहा है !
इसी खंडर की दरारों से वीरानियों का रिसाव हो रहा है !

निरंतर ही मेरे खंडर शरीर में हर कोना एकांत से भर रहा है !
इसी खंडर की दरारों से प्रतिदिन सुकून लुट रहा है !

निरंतर ही मेरे खंडर शरीर में हर एहसास गुम हो रहा है !
इसी खंडर की दरारों को मेरी ख़ुशियों का रहना खल रहा है !

निरंतर ही मेरे खंडर शरीर में ख़ालीपन सरलता से भर रहा है !
इसी खंडर की दरारों में मेरा सूनापन पल रहा है !

निरंतर ही मेरे खंडर शरीर में मन का चैन गुम हो रहा है !
इसी खंडर की दरारों से वेदनाओं का रिसाव हो रहा है...!!!

Khalipan Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Khalipan

Nirantar Hi Mere Khandar Shareer Mein Khalipan Sa Gunj Raha Hai !
Issi Khandar Ki Dararo Se Viraniyon Ka Risav Ho Raha Hai !

Nirantar Hi Mere Khandar Shareer Mein Har Kona Ekant Se Bhar Raha Hai !
Issi Khandar Ki Dararo Se Pratidin Sukoon Lut Raha Hai !

Nirantar Hi Mere Khandar Shareer Mein Har Ehsaas Gum Ho Raha Hai !
Issi Khandar Ki Dararo Ko Meri Khushiyo Ka Rahna Khal Raha Hai !

Nirantar Hi Mere Khandar Shareer Mein Khalipan Saralata Se Bhar Raha Hai ! 
Issi Khandar Ki Dararo Mein Mera Sunapan Pal Raha Hai !

Nirantar Hi Mere Khandar Shareer Mein Man Ka Chain Gum Ho Raha Hai !
Issi Khandar Ki Dararo Se Vedanao Ka Risaav Ho Raha Hai...!!!


Also Read This Poetry :