लड़खड़ाता बुढ़ापा

उम्र के आख़री पड़ाव पर वो लड़खड़ाते सीढ़ियाँ चढ़ रहे है,
जीवन का आख़री सफ़र तय करने की चाहत लिए वो बुढ़ापा जी रहे है !

उम्र के हर पड़ाव को जी कर वो यादों में संजो रहे है,
हर तजुर्बे को बयान करने की चाहत लिए वो बुढ़ापा जी रहे है !

लड़खड़ाते और नादानियाँ कर वो दूजा बचपना जी रहे है,
अब हर वजह को बेवजह ठहराने की चाहत लिए वो बुढ़ापा जी रहे है !

आँखों से धुंधला वो अब सारा संसार देख रहे है,
आँखों से ना हो कोई ओझल यही चाहत लिए वो बुढ़ापा जी रहे है !

दो पल के लिए वो अपनों का साथ तलाश रहे है,
अपने क़िस्सों और कहानियों को सुनाने की चाहत लिए वो बुढ़ापा जी रहे है...!!!

लड़खड़ाता बुढ़ापा Ladkhadata Budhapa Hindi Poetry By Priya Pandey

Ladkhadata Budhapa

Umar Ke Aakhiri Padav Par Wo Ladkhadate Sidhiyan Chadh Rahe Hai,
Jeevan Ka Aakhiri Safar Tay Krne Ki Chahat Liye Weh Budhapa Jee Rahe Hai !

Umar Ke Har Padav Ko Jee Kar Wo Yaado Mein Sanjo Rahe Hai,
Har Tajurbe Ko Bayaan Krne Ki Chahat Liye Weh Budhapa Jee Rahe Hai !

Ladkhadate Aur Nadaniyan Kar Wo Duja Bachpana Jee Rahe Hai,
Ab Har Wajah Ko Bewajah Thehrane Ki Chahat Liye Wo Budhapa Jee Rahe Hai !

Aankho Se Dhundhla Wo Ab Sara Sansar Dekh Rahe Hai,
Aankho Se Na Ho Koi Ojhal Yahi Chahat Liye Wo Budhapa Jee Rahe Hai !

Do Pal Ke Liye Wo Apno Ka Sath Talaash Rahe Hai,
Apne Kisse Aur Kahaniyo Ko Sunane Ki Chahat Liye Wo Budhapa Jee Rahe Hai...!!!


Also Read This Poetry :