हार जीत

जीत से अवसर की तलाश में भटक रही थी हार !
जीत से हमदर्दी की तलाश में भटक रही थी हार !

अपने ज़ख्मों की भरपायी करना चाह रही थी हार !
जीत के नक़्शे कदम पर चलना चाह रही थी हार !

जीत से थोड़ा थोड़ा घबरा रही थी हार !
जीत को जीतने का वहम पाल रही थी हार !

जीत के पैमाने को माप रही थी हार !
जीत के संघर्षों को आंक रही थी हार !

जीत से बहुमत पाना चाह रही थी हार !
जीत के साथ मुस्कुराना चाह रही थी हार !

जीत की रीत निभाना चाह रही थी हार !
जीत की भूमि पर आशियाना बसाना चाह रही थी हार !

जीत से बेहतर सम्बन्ध बनाना चाह रही थी हार !
जीत का स्वाद चखना चाह रही थी हार !

जीत के हर पहलू से वाक़िफ़ होना चाह रही थी हार !
जीत को जीतने का बेसब्री से इंतज़ार कर रही थी हार...!!!

हार जीत Haar Jeet Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Haar Jeet

Jeet Se Avsar Ki Talaash Mein Bhatak Rahi Thi Haar !
Jeet Se Hamdardi Ki Taalash Mein Bhatak Rahi Thi Haar ! 

Apne Zakhmo Ki Bharpayi Krna Chah Rahi Thi Haar !
Jeet Ke Nakshe Kadam Par Chalna Chah Rahi Thi Haar !

Jeet Se Thoda Thoda Ghabra Rahi Thi Haar !
Jeet Ko Jeetne Ka Vaham Paal Rahi Thi Haar ! 

Jeet Ke Paimane Ko Maap Rahi Thi Haar !
Jeet Ke Sangharsho Ko Aank Rahi Thi Haar ! 

Jeet Se Bahumat Pana Chah Rahi Thi Haar !
Jeet Ke Sath Muskurana Chah Rahi Thi Haar !

Jeet Ki Reet Nibhana Chah Rahi Thi Haar !
Jeet Ki Bhoomi Par Aashiyana Bsana Chah Rahi Thi Haar ! 

Jeet Se Behtar Sambandh Bnana Chah Rahi Thi Haar !
Jeet Ka Swaad Chakhna Chah Rahi Thi Haar 

Jeet Ke Har Pehlu Se Wakif Hona Chah Rahi Thi Haar !
Jeet Ko Jeetne Ka Besabri Se Intzaar Kr Rahi Thi Haar...!!!


Also Read This Poetry :