एक उद्देश्य का वर्चस्व

भाग कर थकना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !
साधन को जुटाना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !
सभी प्रेरक से प्रेरणा पाना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !
कर्तव्यों में परिपूर्ण होना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !

सभी मार्ग में प्रशस्त होना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !
मन में लगन को निर्मित करना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !
सभी विचारो में विलीन होना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !
सभी समस्याओं का हल खोजना नही चाहती मैं हर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए !

जीवन को सार्थक बनाना चाहती हूँ मैं सिर्फ़ एक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए !
जीवन की सर्वोत्तम यात्रा करना चाहती हूँ मैं सिर्फ़ एक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए !
प्रतिष्ठा का आनंद लेना चाहती हूँ मैं सिर्फ़ एक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए !
एक उद्देश्य का वर्चस्व चाहती हूँ मैं सिर्फ़ एक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए...!!!

एक उद्देश्य का वर्चस्व Hindi Thoughts By Priya Pandey

Ek Uddeshya Ka Varchasv

Bhaag Kar Thakna Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye ! Sadhan Ko Jutana Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye !
Sabhi Prerak Se Prerna Pana Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye !
Kartavyo Mein Paripurn Hona Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye !

Sabhi Marg Mein Prashst Hona Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye !
Man Mein Lagan Ko Nirmit Karna Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye !
Sabhi Vicharo Mein Vileen Hona Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye !
Sabhi Samasyao Ka Hal Khojna Nahi Chahti Mein Har Uddeshyo Ki Prapti Ke Liye ! 

Jeevan Ko Sarthak Banana Chahti Hu Mein Sirf Ek Lakshay Ki Prapti Ke Liye !
Jeevan Ki Sarvottam Yatra Karna Chahti Hu Mein Sirf Ek Lakshay Ki Prapti Ke Liye !
Pratishtha Ka Anand Lena Chahti Hu Mein Sirf Ek Lakshay Ki Prapti Ke Liye !
Ek Uddeshya Ka Varchasv Chahti Hu Mein Sirf Ek Lakshay Ki Prapti Ke Liye...!!!


Also Read This Poetry :