चुनौतियाँ

चुनौतियों की चुनौतियों से वह निखर रहा है !
चुनौतियों की आदतों में वह ढल रहा है !

चुनौतियों के अहम को वह तोड़ रहा है !
चुनौतियों के अस्तित्व को वह लुभा रहा है !

चुनौतियों के अवरोधों को वह किनार कर रहा है !
चुनौतियों के लिए वह स्वयं अवरोध बन रहा है !

चुनौतियों के अवसादों को वह नष्ट रहा है !
चुनौतियों के अवसरों को वह रोमांचित बना रहा है !

चुनौतियों के ख़िलाफ़ वह चुनौतियाँ खड़ी कर रहा है !
चुनौतियों से लड़ने के लिए वह चुनौतियों को ललकार रहा है !

चुनौतियों के लिए वह स्वयं को न्योछावर कर रहा है !
चुनौतियों की लौ में वह मद्धम मद्धम जल रहा है...!!!!

चुनौतियाँ Chunautiya Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Chunautiya

Chunautiyo Ki Chunautiyo Se Wah Nikhar Raha Hai !
Chunautiyo Ki Aadato Mein Wah Dhal Raha Hai !

Chunautiyo Ke Aham Ko Wah Tod Raha Hai !
Chunautiyo Ke Astitva Ko Wah Lubha Raha Hai !

Chunautiyo Ke Avarodho Ko Wah Kinaar Kar Raha Hai !
Chunautiyo Ke Liye Wah Swayam Avarodh Ban Raha Hai !

Chunautiyo Ke Avasado Ko Wah Nasht Raha Hai !
Chunautiyo Ke Avasaro Ko Wah Romanchit Bana Raha Hai !

Chunautiyo Ke Khilaaf Wah Chunautiya Khadi Kar Raha Hai !
Chunautiyo Se Ladane Ke Liye Wah Chunautiyo Ko Lalkaar Raha Hai !

Chunautiyo Ke Liye Wah Swayam Ko Nyochawar Kar Raha Hai !
Chunautiyo Ki Lau Mein Wah Maddham Maddham Jal Raha Hai...!!!!


Also Read This Poetry :