बनावटी ज़माना

बनावटी ज़माने की म्यान में तलवारें लटक रही है दिखावटी !
बनावटी ज़माने के सच्चे सम्बन्धों में परवाह भी लग रही है मिलावटी !

बनावटी ज़माने की रस्मों में लोग जुड़ते रहे है दिखावटी !
बनावटी ज़माने के खोखले जाल में लोग फँसते रहे है मिलावटी !

बनावटी ज़माने में लोग महज़ मुस्कान दिखा रहे है दिखावटी !
बनावटी ज़माने में लोग ढिंढोरा पीट कर बन रहे है हिमायती !

बनावटी ज़माने में लोग अच्छाई को गढ़, बन रहे है दिखावटी !
बनावटी ज़माने में लोग वफ़ादारी को गढ़, बन रहे है हिमायती !

बनावटी ज़माने में लोग झूठ से परहेज़ कर रहे है दिखावटी !
बनावटी ज़माने में लोग मिठास का भ्रम फैलाकर बन रहे है हिमायती...!!!

बनावटी ज़माना Beautiful Hindi Thoughts By Priya Pandey

Banawati Zamana

Banawati Zamane Ki Myaan Mein Talaware Latak Rahi Hai Dikhawati !
Banawati Zamane Ke Sacche Sambandho Mein Parwah Bhi Lag Rahi Hai Milawati !

Banawati Zamane Ki Rasmon Mein Log Judate Rahe Hai Dikhawati !
Banawati Zamane Ke Khokhale Jaal Mein Log faste Rahe Hai Milawati !

Banawati Zamane Mein Log Mahaz Muskan Dikha Rahe Hai Dikhawati ! Banawati Zamane Mein Log Dhindhora Peet Kar Ban Rahe Hai Himayati !

Banawati Zamane Mein Log Acchai Ko Gadh Ban Rahe Hai Dikhawati ! Banawati Zamane Mein Log Wafadari Ko Gadh Ban Rahe Hai Himayati !

Banawati Zamane Mein Log Jhooth Se Parhez Kar Rahe Hai Dikhawati ! Banawati Zamane Mein Log Mithas Ka Bhram Failakar Ban Rahe Hai Himayati...!!!


Also Read This Poetry :