Hindi Poetry Written By Priya Pandey


नज़रिया

 बहुत हो चुकी अपने नज़रिए की बातें,

चलो औरों के नज़रिए की बातें कीं जाए !

चलो बदल कर देखते है अपने नज़रिए को,

क्या पता औरों में इससे बेहतर ही मिल जाए !


दोहराते ही तो आ रहे है अपना वही पुराना नज़रिया, 

अब तो कुछ नए नज़रिए को भी पढ़ लिया जाए !

श्रेष्ठ ही लगता है सबको बस अपना ही नज़रिया,

औरों को भी ये जताने का मौक़ा तो दिया जाए !


चलो अपना ही लेते है उनके अलग नज़रिए को,

क्या पता ये दुनिया कुछ अलग ढंग से ही दिख जाए...!!!

Nazariya Hindi Poetry Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, काव्य, Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, Urdu Shayari, status, बज़्म

Nazariya


Bahut Ho Chuki Apne Nazariye Ki Baaten,

Chalo Auron Ke Nazariye Ki Baaten Ki Jaye ! 

Chalo Badal Kar Dekhte Hai Apne Nazariye Ko,

Kya Pata Auron Mein Isse Behtar Hi Mil Jaye ! 


Dohrate Hi To Aa Rahe Hai Apna Wahi Purana Nazariya, 

Ab To Kuch Naye Nazariye Ko Bhi Padh Liya Jaye ! 

Shreshth Hi Lagta Hai Sabko Bas Apna Hi Nazariya,

Auron Ko Bhi Ye Jatane Ka Mauqa To Diya Jaye ! 


Chalo Apna Hi Lete Hai Unke Alag Nazariye Ko,

Kya Pta Ye Duniya Kuch Alag Dhang Se Hi Dikh Jaye...!!!


Also Read This Poetry : उम्र ही गुजार दीं लिखते लिखते