विलुप्त अनुभूतियाँ  

अनुभूतियाँ लुप्त हो चली स्वयं को जग प्रमाणित करने में !

विलुप्त हो गयी अनुभूतियों की प्यास जग का गागर भरने में !

अंत में मिली विलुप्त अनुभूतियाँ अपनी ही आत्मीयता में...!!!

विलुप्त अनुभूतियाँ Vilupt Anubhutiya Latest Hindi Quotes Written By Priya Pandey in 2021

Vilupt Anubhutiya

Anubhutiya Lupt Ho Chali Swayam Ko Jag Pramanit Karne Mein ! 

Vilupt Ho Gayi Anubhutiyo Ki Pyaas Jag Ka Gaagar Bharne Mein !

Ant Mein Mili Vilupt Anubhutiya Apni Hi Aatmiyta Mein...!!!


Also Read This Poetry : परिवर्तन 


वजह  

बेवजह स्तंभित खड़ी रही एक मुसाफ़िर,

शाख़ से सूखे पत्तों को गिरते देखने के लिए !

सोचा उसने कोई तो वजह ज़रूर होगी पत्तों को शाख़ से जुदा होने के लिए,

क्यूँकि कल ही तो देखा था उसने 

शाख़ को छटपटाते इन्हीं पत्तों के लिए...!!!

वजह Wajah Latest Hindi Quotes Written By Priya Pandey in 2021

Wajah

Bewajah Stambhit Khadi Rahi Ek Musafir,

Shakh Se Sukhe Patton Ko Girte Dekhne Ke Liye ! 

Socha Usne Koi To Wajah Zaroor Hogi Patton Ko Shakh Se Juda Hone Ke Liye,

Kyunki Kal Hi To Dekha Tha Usne 

Shakh Ko Chatpatate Inhi Patton Ke Liye...!!!


Also Read This Poetry :