कटु वचन से आत्मग्लानि तक

कटु वचन से आत्मग्लानि तक का सफ़र तय कर रही हूँ,

मेरा यह स्वभाव औरों को निरंतर छती जो पहुँचा रहा है!

मंशा ना होते हुए भी मेरे कटु वचन सबको काटने को दौड़ रहे है,

तो यही मेरे कटु वचन मुझे बस आत्मग्लानि का मार्ग दिखा रहे है!


मेरे कटु वचन किसी तानाशाही की भाँति बेलगाम हो रहे है,

जिनसे मेरे शब्द भी मानो किसी डर के माहौल में जी रहे है!

 नियंत्रण करना तो अब तक भी ना सीख सकी अपने कटु वचन पर,

क्यूँकि मेरा मन अब मैल से दूरी बना रहा है!


मैं आत्मग्लानि में जी रही हूँ क्योंकि मेरे ही कटु वचन मेरी पहचान से मीलों दूरी बना रहे है...!!!

कटु वचन से आत्मग्लानि तक  Katu Vachan Se Aatmaglani Tak Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Katu Vachan Se Aatmaglani Tak Ka Safar Tay Kar Rahi Hu,

Mera Yah Svabhav Auron Ko Nirantar Chati Jo Pahuncha Raha Hai ! 

Mansha Na Hote Hue Bhi Mere Katu Vachan Sabko Katane Ko Daud Rahe Hai,

To Yahi Mere Katu Vachan Mujhe Bas Aatmaglani Ka Marg Dikha Rahe Hai ! 

Mere Katu Vachan Kisi Tanashahi Ki Bhanti Belagam Ho Rahe Hai,

Jinse Mere Shabd Bhi Mano Kisi Dar Ke Mahaul Mein Jee Rahe Hai !

Niyantran Karna To Ab Tak Bhi Na Seekh Saki Apne Katu Vachan Par,

Kyunki Mera Man Ab Mail Se Doori Bana Raha Hai ! 

Main Aatmaglani Mein Jee Rahi Hu Kyunki Mere Hi Katu Vachan Meri Pehchan Se Milon Doori Bana Rahe Hai...!!!


Also Read This Poetry :