कला प्रेम

अभिव्यक्ति में कृत्रिम विचारो को आकार देता है कला प्रेम !
मनोवेग में स्थिरता से कृतियों में प्राण डालता है 
कला प्रेम !
संकीर्ण सीमाएँ लाँघ कर अंतर्मन को उदात्त करता है कला प्रेम !
अभिव्यक्ति में कृत्रिम विचारो को आकार देता है कला प्रेम !

अभिव्यक्ति के अंतर्मन से जाग्रत करती ऊर्जा है कला प्रेम !
अभिव्यक्ति के विचारो को अतिरंजित करता है कला प्रेम !

अभिव्यक्ति के समुचित कौशल बुद्धि का प्रमाण है कला प्रेम !
सभी विधाओं में विस्तृत और विशालता का निर्माण है कला प्रेम !

अभिव्यक्ति की चेतना को नया आयाम देता है कला प्रेम...!!!

कला प्रेम Kala Prem Hindi Poetry Written By Priya Pandey Hindi Poem, Quotes, काव्य, Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, Urdu Shayari, status, बज़्म

Kala Prem

Abhivyakti Mein Kritrim Vicharo Ko Aakar Deta Hai Kala Prem ! 
Manoveg Mein Sthirta Se Kritiyo Mein Praan Dalta Hai Kala Prem !

Sankirn Seemae Langh Kar Antarman Ko Udatt Karta Hai Kala Prem !
Abhivyakti Mein Kritrim Vicharo Ko Aakar Deta Hai Kala Prem ! 

Abhivyakti Ke Antarman Se Jagrat Karti Urja Hai Kala Prem !
Abhivyakti Ke Vicharo Ko Atiranjit Karta Hai Kala Prem ! 

Abhivyakti Ke Samuchit Kaushal Buddhi Ka Praman Hai Kala Prem !
Sabhi Vidhao Mein Vistrat Aur Vishalata Ka Nirman Hai Kala Prem ! 

Abhivyakti Ki Chetna Ko Naya Aayam Deta Hai Kala Prem...!!!


Also Read This Poetry :