मन को टटोलता लोभ

सब्र की शक्ति का अंत करता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
मोह को कामना में परिवर्तित करता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
इंसानी बुद्धि को कुंठित करता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
संतुष्टि से अजनबी सा व्यवहार करता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !

अधर्म व अनुचित मार्ग को अपनाता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
अति को विनम्रतापूर्वक अपनाता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
पाप की नौका को पार लगाता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
विनाश की ओर कदम बढ़ाता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !

प्रलोभन में वशीभूत हो कर सिलसिलेवार पतन करता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ !
अंत की अवधि तक अपनी उपयोगिता दर्ज कराता ऐसी तृष्णा है मन का लोभ...!!!

मन को टटोलता लोभ Man Ko Tatolata Lobh Hindi Poetry Written By Priya Pandey

Sabra Ki Shakti Ka Ant Karta Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh !
Moh Ko Kamna Mein Parivartit Karta Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh !

Insani Buddhi Ko Kunthit Karta Aisi Trshna Hai Man Ka Lobh !
Santushti Se Ajnabi Sa Vyavahar Karta Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh ! 

Adharm Va Anuchit Marg Ko Apnata Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh !
Ati Ko Vinamratapurvak Apnata Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh !

Paap Ki Nauka Ko Paar Lagata Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh !
Vinash Ki Or Kadam Badhata Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh ! 

Pralobhan Mein Vashibhoot Ho Kar Silsilewar Patan Karta Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh !
Ant Ki Avadhi Tak Apni Upyogita Darj Karata Aisi Trishna Hai Man Ka Lobh...!!!


Also Read This Poetry :