हितैषी आलोचक

मुट्ठी भर आलोचना लिए कई हितैषी आलोचक 
बदलाव से अवगत करवाते है !
मुट्ठी भर आलोचना लिए कई हितैषी आलोचक
मार्गदर्शन की भूमिका अदा करते है !

तीखे शब्दों का प्रहार किए कई हितैषी आलोचक ही सफलता में मील का पत्थर साबित होते है !
व्यक्ति से अपेक्षा रखने के अनुकूल ही एक हितैषी आलोचक अपने तीखे तीर चलाते है !

झूठी तारीफ़ें और प्रशंसा लिए उपासक अपना जमावड़ा सदैव लगाए रहते है !
पर आलोचनाओं को सकारात्मकता से लेने का सामर्थ्य उत्तम व्यक्ति सदैव रखते है !

उपलब्धियों की कमाई में आलोचनाएँ भी अपना हिस्सा निश्चित रखती है !
कुछ बेहतर करने की चाह में ये हितैषी आलोचक ही व्यक्ति के लिए कारगर साबित होते है...!!!

हितैषी आलोचक | Hitaishi Aalochak Hindi Thoughts Written By Priya Pandey

Hitaishi Aalochak

Mutthi Bhar Aalochna Liye Kai Hitaishi Aalochak Badalav Se Avagat Karvate Hai !
Mutthi Bhar Aalochna Liye Kai Hitaishi Aalochak Margdarshan Ki Bhoomika Ada Karte Hai ! 

Tikhe Shabdo Ka Prahaar Kie Kai Hitaishi Aalochak Hi Safalata Mein Meel Ka Patthar Sabit Hote Hai !
Vyakti Se Apeksha Rakhne Ke Anukool Hi Ek Hitaishi Aalochak Apne Tikhe Teer Chlate Hai !

Jhoothi Tarifen Aur Prashnsa Liye Upasak Apana Jamavada Sadaiv Lagaye Rahte Hai !

Par Aalochnao Ko Sakaratmakata Se Lene Ka Samarthya Uttam Vyakti Sadaiv Rakhte Hai !

Uplabdhiyo Ki Kamai Mein Aalochanae Bhi Apna Hissa Nishchit Rakhti Hai !
Kuch Behtar Karane Ki Chaah Mein Ye Hitaishi Aalochak Hi Vyakti Ke Liye Kargar Sabit Hote Hai...!!!


Also Read This Poetry :