आत्मसंयम

अपनी डगर मैं चल रही हूँ आत्मसंयम है जो मेरे पास में,
अपना कल्याण मैं स्वयं कर रही हूँ आत्मसंयम है जो मेरे पास में !

अपनी इच्छाओं को मैं बुन रही हूँ श्रम शक्ति है जो मेरे पास में,
अपनी डगर मैं चल रही हूँ आत्मसंयम है जो मेरे पास में !

बिखरे लक्ष्य को निश्चित कर रही हूँ दिशा गति है जो मेरे पास में,
आकर्षण के विरुद्ध मन को सहज कर रही हूँ आत्मसंयम है जो मेरे पास में !

भीतरी मन को संयम से जोड़ रही हूँ स्पष्ट दृष्टिकोण है जो मेरे पास में,
बिखरे लक्ष्य को निश्चित कर रही हूँ दिशा गति है जो मेरे पास में !

अपनी इंद्रियों को क़ाबू करने का प्रयास कर रही हूँ, 
ओझल मन विद्यमान है जो मेरे पास में,
अपना कल्याण मैं स्वयं कर रही हूँ आत्मसंयम है जो मेरे पास...!!!

आत्मसंयम Aatmsanyam Hindi Poetry Thoughts Written By Priya Pandey

Aatmsanyam

Apni Dagar Main Chal Rahi Hu Aatmsanyam Hai Jo Mere Paas Mein,
Apna Kalyaan Main Swayam Kar Rahi Hu Aatmsanyam Hai Jo Mere Paas Mein !
Apni Icchao Ko Main Bun Rahi Hu Shram Shakti Hai Jo Mere Paas Mein,
Apni Dagar Main Chal Rahi Hu Aatmsanyam Hai Jo Mere Paas Mein !

Bikhare Lakshay Ko Nishchit Kar Rahi Hu Disha Gati Hai Jo Mere Paas Mein,
Aakarshan Ke Viruddh Man Ko Sahaj Kar Rahi Hu Aatmsanyam Hai Jo Mere Paas Mein !
Bhitari Man Ko Sanyam Se Jod Rahi Hu Spasht Drashtikon Hai Jo Mere Paas Mein,
Bikhare Lakshay Ko Nishchit Kar Rahi Hu Disha Gati Hai Jo Mere Paas Mein !
 
Apni Indriyo Ko Qaboo Karne Ka Prayas Kar Rahi Hu,
Ojhal Man Vidyaman Hai Jo Mere Paas Mein,
Apna Kalyaan Main Swayam Kar Rahi Hu Aatmsanyam Hai Jo Mere Paas Mein...!!!


Also Read This Poetry :