तमन्ना है मुझे फ़िज़ूल सी बातों की रिहाई की !

चाहिए ज़िंदगी के उसूलों की रुसवाई भी !

चुभन को महसूस करती ग़ैरों की बातें भी !

तमन्ना है मुझे फ़िज़ूल सी बातों की रिहाई की !!


त्यागती उन मिठास को मुख से,

अपनाना तो है थोड़ी कड़वाहट भी !


वाक़िफ़ हो चलु अपनी रूह की बातों से,

 बेफिक्र और अजनबी अब बनूँ ग़ैरों की बातों से भी!


सन्नाटे की धुन कुछ यूँ सवार है चाहिए थोड़ी शांति भी !

तमन्ना है अब ना शोरगुलों की ना ही है ग़ैरों के सितम की !


तमन्ना है बस मेरे कैद सपने से मुझको रिहाई की !

तमन्ना है बस फ़िज़ूल सी बातों की रिहाई की....!!!


तमन्ना है मुझे फ़िज़ूल सी बातों की रिहाई की ! Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.

Tamanna Hai Mujhe Fizool Si Baato Ki Rihai Ki ! 

Chahiye Zindagi Ke Usoolo Ki Rusavai Bhi !

Chubhan Ko Mahsoos Karti Gairo Ki Baaten Bhi ! 

Tamanna Hai Mujhe Fizool Si Baato Ki Rihai Ki !! 


Tyagti Un Mithas Ko Mukh Se,

Apnana To Hai Thodi Kadvahat Bhi ! 

Waqif Ho Chalu Apni Rooh Ki Baato Se,

Befhikar Aur Ajnabi Ab Banu Gairon Ki Baato Se Bhi !

 

Sannate Ki Dhun Kuch Yu Sawar Hai Chahiye Thodi Shanti Bhi ! 

Tamanna Hai Ab Na Shoragulo Ki Na Hi Hai Gairon Ke Sitam Ki ! 


Tamanna Hai Bas Mere Kaid Sapne Se Mujhko Rihae Ki ! 

Tamanna Hai Bas Fizool Si Baato Ki Rihae Ki....!!!