वचन हूँ ,

यूँ बांधो की बंध जाऊँ !


यूँ भी ना टूटूँगा मैं !

क्यूँकि?...अटल हूँ,

जो ना झुक पाऊँ!


निरंतर से इस जीवन में अहमियत का किरदार निभाता हूँ !

बैठ के देखो मेरे होंठों तले कई जिंदगियाँ भी संवारता हूँ!


ऐसी मेरी नीयत तो नही की बातों से मैं मुकर जाऊँ !

ऐसा मेरा आचरण भी नही जो सबकी बातों पे ठहर जाऊँ !


अटल भी है मेरी प्रवृति,

गंगा की भाँति ना बह पाऊँ!

वचन हूँ यूँ बांधो की बंध जाऊँ ....!!!

वचन हूँ यूँ बांधो की बंध जाऊँ | Vachan Hu Yu Bandho Ki Bandh Jao Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख

Vachan Hu ,

Yu Bandho Ki Bandh Jao ! 


Yu Bhi Na Tutunga Main ! 

Kyunki?... Atal Hu,

Jo Na Jhuk Pao ! 


Nirantar Se Is Jeevan Mein Ahamiyat Ka Kirdaar Nibhata Hu ! 

Baith Ke Dekho Mere Hontho Tale Kai Jindgiya Bhi Sanwarta Hu ! 


Aisi Meri Neeyat To Nahi Ki Baato Se Main Mukar Jao ! 

Aisa Mera Aacharan Bhi Nahi Jo Sabki Baato Pe Thahar Jao ! 


Atal Bhi Hai Meri Pravrti,

Ganga Ki Bhanti Na Bah Pao ! 

Vachan Hu,

Yu Bandho Ki Bandh Jao....!!!