तुझ संग दोस्ती मेरी कुछ अधूरी सी रही ,

थोड़ी ही सही पर खूबसूरत सी रही !


वक़्त बहुत मिला था जब,तो तुझे जाना नही!

अब जाना तो,वो पहले जैसा वक़्त नही! 


आज भी बातें दिल को सुकून देती है ,

आज भी तू साथ है यह मन को एहसास दिलाती है !


खूबसूरत तू कल भी थी‌ ,

और आज भी मन से!

तेरा मन का साफ़ होना ,

तेरे चेहरे पर दर्पण की तरह झलकता है!

तेरा साथ होना ही सब कुछ बयां करता है!


एक समय था जब तुझे मुस्कुराते देखती थी हर सुबह ,

तेरा बेफ़िक्र होना हँसाता था मुझको !

तेरी छवि ही कुछ अलग ही रही दोस्ती में ,

ज़िंदगी जीते है कैसे यह सिखाती थी मुझको !


बेफ़िक्र आज़ादी से जीती है जीवन को जो ,तू ऐसी दोस्त है !

शुक्रगुज़ार हूँ तेरी की तू मेरी दोस्त है ....!!!

तुझ संग दोस्ती मेरी कुछ अधूरी सी रही | Tujh Sang Dosti Meri Kuch Adhoori Si Rahi Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.

Tujh Sang Dosti Meri Kuch Adhoori Si Rahi , 

Thodi Hi Sahi Par Khoobsoorat Si Rahi !


Waqt Bahut Mila Tha Jab, To Tujhe Jaana Nahi !

Ab Jaana To, Vo Pahale Jaisa Waqt Nahi ! 


Aaj Bhi Baatein Dil Ko Sukoon Deti Hai , Aaj Bhi Tu Saath Hai Yeh Man Ko Ehasaas Dilati Hai ! 


Khoobsoorat Tu Kal Bhi Thi , 

Aur Aaj Bhee Man Se ! 

Tera Man Ka Saaf Hona , 

Tere Chehare Par Darpan Ki Tarah Jhalakata Hai !

Tera Saath Hona Hi Sab Kuch Bayaan Karata Hai ! 


Ek Samay Tha Jab Tujhe Muskuraate Dekhati Thi Har Subah , 

Tera Befikr Hona Hansata Tha Mujhako !

Teri Chhavi Hi Kuch Alag Hi Rahi Dosti Mein , 

Zindagi Jeete Hai Kaise Yah Sikhati Thi Mujhako ! 


Befikr Aazadi Se Jeeti Hai Jeevan Ko Jo ,Tu Aisi Dost Hai ! 

Shukraguzaar Hoon Teri Ki Tu Meri Dost Hai ....!!!