बेचैन सी गुजर रही शबों की ,

आज़माइश है सुकून !

शोरों से लड़कर मैं चली ,

ख़रीदने थोड़ा सा सुकून !

ढूँढ रही सिमटी हुई ख़ुशियों मैं अपार सुकून !

बेचैन सी गुज़र रही शबों कीं ,

आज़माइश है सुकून !


लिखने को बैठी गुज़रे ज़माने की बातें ,

काग़ज़ों को उनका सुकून मिल गया !

मेरी रंजिशों को काग़ज़ों पे उतारा इस क़दर ,

मेरी गुमनाम से जीवन को एक सहारा मिल गया !


बड़ी खामोशी से लिखती हूँ हर उस पल को काग़ज़ों पे ,

जो कही मुझे चीखने पे मजबूर किया करती है !

आज़ाद हूँ उन भटकतीं राहों से जो ,

कभी मेरी परेशानियों का सबब हुआ करती है !


ग़मों को बाटने से अच्छा तो ,

उनसे खुद ही सुलझ लेना है सुकून !

ज़माने के ग़म और ख़ुशियों को कागज पे उतार लेना ,

बस यही है मेरा सुकून ...!!!!


सुकून | Sukoon Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख

Bechain Si Gujar Rahi Shabo Ki ,

Aazmaish Hai Sukoon !

Shoro Se Ladkar Main Chali ,

Kharidane Thoda Sa Sukoon !

Dhoondh Rahi Simati Hui Khushiyon Main Apar Sukoon !

Bechain Si Guzar Rahi Shabon Ki ,

Aazmaish Hai Sukoon ! 


Likhane Ko Baithi Guzare Zamane Ki Baate ,

Kagazon Ko Unka Sukoon Mil Gya !

Meri Ranjisho Ko Kagazon Pe Utara Is Qadar ,

Meri Gumnaam Se Jeevan Ko Ek Sahara Mil Gaya !


Badi Khamoshi Se Likhati Hu Har Uss Pal Ko Kagazon Pe ,

Jo Kahi Mujhe Cheekhne Pe Majboor Kiya Krati Hai !

Aazaad Hu Un Bhatakati Raaho Se Jo ,

Kabhi Meri Pareshaniyo Ka Sabab Hua Karti Hai !


Gamo Ko Batane Se Acha To ,

Unse Khud Hi Sulajh Lena Hai Sukoon ! 

Zamane Ke Gam Aur Khushiyon Ko Kagaj Pe Utar Lena ,

Bas Yahi Hai Mera Sukoon ...!!!!