सज़ा भी कुछ ऐसी नासूर होती है,

एक पल की गलती भी जीवनभर की सज़ा देती है!

आज़ादी की दुनिया में ग़ुलामी भी है एक सज़ा,

फूलो से कोमल हाथों को हथकड़ी जो पहना देती है !


अच्छाई की अति जब होती है,

तो सज़ा अपार मिल जाती है!

सिर पे छत ना हो तो,

बारिश मुसलाधार हो जाती है!


रूप बदल कर कही शोक में डुबातीं है,

कही उम्र भर इस जीवन को एक पिंजरा बना जाती है!

सज़ा भी कुछ ऐसी नासूर होती है....!!!

सज़ा | Saza Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.

Saza Bhi Kuch Aisi Nasoor Hoti Hai,

Ek Pal Ki Galati Bhi Jeevanbhar Ki Saza Deti Hai!

Azadi Ki Duniya Mein Gulami Bhi Hai Ek Saza,

Phoolo Se Komal Hathon Ko Hathkadi Jo Pahna Deti Hai !

 

Achai Ki Ati Jab Hoti Hai,

To Saza Apaar Mil Jati Hai!

Sir Pe Chhat Na Ho To,

Baarish Musladhar Ho Jati Hai!

 

Roop Badal Kar Kahi Shok Mein Dubati Hai,

Kahi Umar Bhar Is Jeevan Ko Ek Pinjra Bana Jati Hai!

Saza Bhi Kuch Aisi Nasoor Hoti Hai....!!!