ख़त है मेरा कुछ ऐसा कल के नाम

 ख़त है मेरा कुछ ऐसा कल के नाम ,

द्रढ़ मन से कही कुछ ऐसी बात !

सुशोभित जीवन में मेरे विपत्ति तो डाल,

ख़त है मेरा कुछ ऐसा कल के नाम !!


निखरू संवरूँ और नियति को जान लू मैं ,

ना अंधकार से डरूँ ना शोक से डुबूँ मैं !

सुवर्ण अग्नि में तपकर अधिक सतेज बनूँ मैं ,

मोह-ममता इच्छा व स्वार्थ का कही तो त्याग करूँ मैं !!


दुःख सुख का यही कालचक्र है!
क्यूँ भयभीत रहूँ मैं !

ख़त है मेरा कुछ ऐसा कल के नाम..
ख़त है मेरा कुछ ऐसा कल के नाम....!!!

Khat Hai Mera Kuch Aisa Kal Ke Naam Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.

Khat Hai Mera Kuch Aisa Kal Ke Naam


Khat Hai Mera Kuch Aisa Kal Ke Naam,

Dradh Man Se Kahi Kuch Aisi Baat !

Sushobhit Jeevan Mein Mere Vipatti Tu Daal,

Khat Hai Mera Kuchh Aisa Kal Ke Naam !! 


Nikharu Sanvaru Aur Niyati Ko Jaan Lu Main ,

Na Andhakar Se Daroon Na Shok Se Duboon Main ! 

Suvarn Agni Mein Tapakar Adhik Satej Banoon Main ,

Moh-mamata Ichchha Va Svaarth Ka Kahi To Tyaag Karoon Main !! 


Duhkh Sukh Ka Yahi Kaalchakr Hai! 
Kyu Bhayabheet Rahoon Main !

Khat Hai Mera Kuch Aisa Kal Ke Naam....
Khat Hai Mera Kuch Aisa Kal Ke Naam....!!!