कल मिली थी उन यादों से , 

पूछने लगी वो मेरा हाल !

मैंने कहा तेरी साज़िशों ने ,

दिल में रखे है कई मलाल !


यादों को भी मुझ संग , 

उलझने की आदत सी थी !

ज़िद्दी थी वो हर एक शाम ,

मुझको जो रुला देती थी !


गुफ़्तगू की उन यादों ने भी मेरे साथ ,

कुछ शिकायतें भी लेकर आयी थी मेरे पास !

बोली यूँ टूटी तो नही ?

इस क़दर मेरा यूँ तेरे आने से पास !


कल मिली थी उन यादों से,

पूछने लगी वो मेरा हाल !!!


कल मिली थी उन यादों से | Kal Mili Thi Un Yaado Se | Hindi Poetry Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख


 Kal Mili Thi Un Yaado Se, 

Puchane Lagi Vo Mera Haal ! 

Maine Kha Teri Sazishon Ne,

Dil Mein Rakhe Hai Kai Malaal ! 


Yaado Ko Bhi Mujh Sang,

Ulajhane Ki Aadat Si Thi !

Ziddi Thi Vo Har Ek Shaam, 

Mujh ko Jo Rula Deti Thi ! 


Guftagu Ki Un Yaado Ne Bhi Mere Saath,

Kuch Shikayate Bhi Lekar Aayi Thi Mere Paas !

Boli Yoon Tooti To Nahi ?

Is Qadar Mera Yoon Tere Aane Se Paas !

 

Kal Mili Thi Un Yaado Se,

Puchane Lagi Vo Mera Haal !!!



Also Read This Poetry : वचन हूँ यूँ बांधो की बंध जाऊँ