ईर्ष्या का अस्तित्व ही होता,

मानवता में ही विलीन ! 

मानव द्वेष ईर्ष्या को मोल लेता,

और करता खुद को ही अर्थहीन !


कामयाबी की आग को ईर्ष्या राख करती !

ख़ुशियों के गुलशन को भी ईर्ष्या ही उजाड़ती !


तुलना हो तो ईर्ष्या का भय होता !

ईर्ष्या हो तो प्रतिस्पर्धा का भय होता !


ईर्ष्या के छाँव तले ख़ुशियों की फ़िराक़ में होता !

कैसा है ये मानव जीव !

दो पल को अकेला महसूस भी ना करता !


बड़ी ही संजीदा है ये ईर्ष्या !!!


ईर्ष्या | Hindi Poetry Thoughts Written By Priya Pandey , Irshya , Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.


Irshya Ka Astitav Hi Hota,

Manavta Mein Hi Vileen ! 

Maanav Dvesh Irshya Ko Mol Leta,

Aur Karta Khud Ko Hi Arthhin ! 


Kamyabi Ki Aag Ko Irshya Raakh Karti !

Khushiyo Ke Gulshan Ko Bhi Irshya Hi Ujaadti ! 


Tulna Ho To Irshya Ka Bhay Hota !

Irshya Ho To Pratispardha Ka Bhay Hota ! 


Irshya Ke Chanv Tale Khushiyo Ki Firaaq Mein Hota !

Kaisa Hai Ye Manav Jeev ,

Do Pal Ko Akela Mehsoos Bhi Na Karta ! 


Badi Hi Sanjida Hai Ye Irshya !!!


Also Read This Poetry : अटूट विश्वास