संजो के रखती रही हर रिश्तों को जो Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.

संजो के रखती रही हर रिश्तों को जो ,

सुलझाती रही कही हर रिश्तों को !

उलझनो के भीतर भी पाती रही खुद को,

संजो के रखती रही हर रिश्तों को जो !!


चलती रही बस चलना ही मंज़ूर किया ,

खुद को घूटते रिश्तों से आज़ाद किया !

कही बेबाक़ अन्दाज़ को दर्शाया तो ,

कही बड़बोले पन से हँसाया भी सबको !!


मिलनसार सा व्यवहार रहा सभी के प्रति ,

सकारात्मक सा प्रभाव डालती रही सभी के प्रति !


परीस्थितयो को समझाना कुछ ऐसा है तेरा ,

जैसे उन सभी से उभर कर आना है तेरा !


सिखाती भी रही समझाती भी रही ,

जैसे की तू साँझा कर रही हर जज़्बात को !


तू कोशिशों पर अमल कर यही तेरे जीवन का अर्थ हो जाए !

उन रास्तों पर ना जाए जो तेरे अहम से परे हो जाए !!


ना ही भटके ना कभी हो भयभीत तू ,

अपनी मंज़िलो को पाने में !

आसान बना खुद अपनी ही राहों को बस तू ,

ऐसे ही संजो कर रखती रहे हर रिश्तों और जज़्बातों को .....!!!



Sanjo Ke Rakhti Rahi Har Rishton Ko Jo ,

Sulajhati Rahi Kahi Har Rishton Ko ! 

Ulajhano Ke Bhitar Bhi Pati Rahi Khud Ko,

Sanjo Ke Rakhti Rahi Har Rishton Ko Jo !! 


Chalati Rahi Bas Chalna Hi Manzoor Kiya ,

Khud Ko Ghutate Rishton Se Aazaad Kiya ! 

Kahi Bebaq Andaaz Ko Darshaya To ,

Kahi Badbole Pan Se Hansaya Bhi Sabko !! 


Milansar Sa Vyavahar Raha Sabhi Ke Prati ,

Sakaratmak Sa Prabhav Dalti Rahi Sabhi Ke Prati ! 

Paristhityo Ko Samajhana Kuch Aisa Hai Tera ,

Jaise Un Sabhi Se Ubhar Kar Aana Hai Tera ! 


Sikhati Bhi Rahi Samajhati Bhi Rahi ,

Jaise Ki Tu Sanjha Kar Rahi Har Jazbaat Ko ! 

Tu Koshisho Par Amal Kar Yahi Tere Jeevan Ka Arth Ho Jae ! 

Un Raston Par Na Jae Jo Tere Aham Se Pare Ho Jae !! 


Na Hi Bhtake Na Kabhi Ho Bhyabheet Tu ,

Apani Manzilo Ko Pane Mein ! 

Aasan Bana Khud Apani Hi Raho Ko Bas Tu ,

Aise Hi Sanjo Kar Rakhti Rahe Har Rishto Aur Jazbato Ko .....!!!