बड़ा निरंकुश है ये शक !

दुहाई की दलीलें देता शक !

रिश्तों को टूटने का कारण देता,

बड़ा ही निरंकुश है ये शक !


शक से गहरे दरिया को,

यक़ीन के साहिल की तलाश है !

अंधेरी रातों जैसे शक को,

छोटे से भरोसे की भाँति रोशनी की आस है !

 

उठाते है जो शक का बीड़ा तो दूर तलक ले जाते है

ठहर के देख लेते उनके पीछे कितने यक़ीन दफन हो जाते है !


बड़ा निरंकुश है ये शक !

बड़ा निरंकुश है ये शक....!!!

बड़ा निरंकुश है ये शक | Bada Nirankush Hai Ye Shak Written By Priya Pandey Hindi Poem, Poetry, Quotes, कविता, Written by Priya Pandey Author and Hindi Content Writer. हिंदी कहानियां, हिंदी कविताएं, विचार, लेख.

Bada Nirankush Hai Ye Shak !

Duhai Ki Dalile Deta Shak !

Rishton Ko Tutane Ka Karan Deta,

Bada Hi Nirankush Hai Ye Shak ! 


Shak Se Gahre Dariya Ko,

Yaqeen Ke Sahil Ki Talash Hai !

Andheri Raato Jaise Shak Ko,

Chote Se Bharose Ki Bhanti Roshani Ki Aas Hai !

 

Uthate Hai Jo Shak Ka Beeda To Door Talak Le Jate Hai !

Thahar Ke Dekh Lete Unake Piche Kitane Yaqeen Dafan Ho Jaate Hai !

 

Bada Nirankush Hai Ye Shak !

Bada Nirankush Hai Ye Shak..!!